विभिन्न प्रतियोगी परिक्षाओं का आयोजन

विभिन्न प्रतियोगी परिक्षाओं का आयोजन

22 Dec, 2018

विभिन्न प्रतियोगी परिक्षाओं का आयोजनविद्यार्थियों में सामान्य ज्ञान बढ़ाने व इसके प्रति रुचि पैदा करने के लिए ला मॉन्टेसरी स्कूल समय- समय पर विद्यार्थियों के लिए प्रतियोगी परीक्षा का आयोजन करवाता रहता है।इसमें शामिल दर्जनों विद्यालयों के विद्यार्थियों के भीतर छिपी प्रतिभा को उजागर किया जाता। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारियों के लिए सबसे महत्वपूर्ण है लगन। छात्र को यह पता होना चाहिए कि जिस परीक्षा में वह बैठने जा रहे हैं उसके लिए कितनी मेहनत करने की आवश्यकता है। परीक्षा में अपना 100 प्रतिशत देने की पूरी कोशिश करें। दूसरा सबसे महत्वपूर्ण ध्यान देने योग्य विषय है पढ़ाई के लिए दिया जाने वाला समय। आप जितना ज्यादा समय अपनी तैयारी को देंगे उतना बेहतर परीक्षा में कर पाएँगे। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि मनोरंजन के लिए भी आपके पास समय न हो। सही पढ़ाई के लिए दिमाग का तरोताजा होना भी बहुत जरूरी है। इसके लिए आप नियमित रुप से व्यायाम भी कर सकते हैं जिससे आपका शरीर और दिमाग दोनों ही फिट रहेंगे। प्रतियोगी परीक्षाओं का उद्देश्य केवल आपकी प्रतिभा को आंकना नहीं, बल्कि आपकी मैनेजमेंट व प्लानिंग स्किल्स को परखना भी होता है। किसी भी प्रतियोगी परीक्षा का कॉन्सेप्ट रणनीतिक सोच व स्मार्ट वर्क पर आधारित होता है। परंपरागत रूप से माना जाता आया है कि परीक्षा में सफल होने के लिए जरूरी है कई-कई घंटों तक पढ़ना, टेबल पर प्रतियोगी परीक्षा संबंधी किताबों का ढेर लगा देना, दोस्तों-परिजनों से बिल्कुल कट जाना आदि। मगर इन बातों पर अमल करने से दांव उल्टा पड़ सकता है। जरूरत इस बात की है कि आप स्मार्ट स्टडी करें, अपनी रणनीति पर फोकस करें और प्लानिंग, टाइम मैनेजमेंट व स्मार्ट वर्क के सही संतुलन के साथ परीक्षा की तैयारी करें। चलिए, जानते हैं प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए पढ़ाई करने के कुछ प्रभावी तरीके। जानकार तथा फिजियोलॉजिस्ट सुझाव देते हैं कि लगातार लंबे समय तक बैठकर पढ़ने से बचना चाहिए। थोड़े-थोड़े समय के बाद ब्रेक लेना भी जरूरी है क्योंकि इससे मस्तिष्क बेहतर तरीके से काम कर पाता है। तो अब जब आप पढ़ाई करने बैठें, तो अपनी पढ़ाई को अलग अलग हिस्सों में बांट दें। याद रखें, ब्रेक लेने का मतलब पढ़ाई से जी चुराना नहीं है। अपना स्टडी मटीरियल सोच-समझकर चुनें। सही स्टडी मटीरियल होने से आपके समय की बर्बादी बचेगी और प्रयास भी कम लगेगा। उदाहरण के लिए, मैथमेटिक्स के फॉर्मूले और शॉर्टकट्स जैसा स्टडी मटीरियल तय समय में क्वॉन्टिटेटिव एप्टिट्यूड के प्रश्नों के सही हल निकालने में आपकी मदद करेगा। आप जिस भी प्रतियोगी परीक्षाकी तैयारी कर रहे हों, उसके बारे में आपको पूरी जानकारी होनी ही चाहिए। यानी आपका कॉन्सेप्ट बिल्कुल क्लियर होना चाहिए। मसलन, यदि आप आईएएस परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, तो आपको एग्जाम पैटर्न, सिलेबस, टॉपर्स की राय आदि के बारे में अच्छी तरह पता होना चाहिए। इससे आपको इस बात का ठीक ठीक अंदाज हो जाता है कि आप क्या करने जा रहे हैं और इससे आप सही प्लानिंग के साथ उचित तरीके से पढ़ाई कर सकते हैं। टेस्ट सिरीज के माध्यम से आपको परीक्षा के बारे में सटीक जानकारी मिल सकती है। कड़ी प्रतिस्पर्धा के इस दौर में भीड़ से अलग दिखना आपकी सफलता की गारंटी बन सकती है। इसलिए कुछ अलग करने की सोचें और इस सोच पर प्रभावी तरीके से अमल करें। ला मॉन्टेसरी स्कूल इसके माध्यम से विद्यार्थियों की शैक्षिक योग्यता का सही मूल्यांकन करता है। परीक्षा किसी भी क्षेत्र में क्यों न हो करवाना आवश्यक है। इस तरह की परिक्षाओं में सफलता न ही केवल विद्यार्थियों का मनोबल बढ़ाती है बल्कि उसके लिए संभावनाओं और प्रसिद्धि के नए द्वार खोल देती है। हालाँकि इन प्रतियोगी परिक्षाओं को देते समय दिमाग में इस बात को बैठा लेना बहुत जरूरी है कि परिक्षा में न चुने जाने पर ये न समझें कि आपमें क्षमताओं की कमी है। हर विद्यार्थी का सोचने और समझने का तरीका अलग होता है लेकिन शायद ये सारी चीजें आपकी परीक्षा में आपकी मदद कर पाएँ। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए ला मॉन्टेसरी स्कूल समय- समय पर विद्यार्थियों का स्वयं मूल्याकन करने के लिए कई प्रतियोगिताओं का आयोजन कराता है जैसे हाल ही में विद्यालय ने नेशनल ओलिंपियाड फाउंडेशन और विद्यार्थी विज्ञान मथन जैसी प्रतियोगिताएँ करवाई। जिससे विद्यार्थियों को ओर कई महत्वपूर्ण जानकारियाँ प्राप्त हुई। ऐसी प्रतियोगिताएँ विद्यार्थियों को भविष्य के लिए तैयार करती हंै।